Jan 182009
 

मुझे तुमने मालिक बहुत कुछ दिया हैं

मुझे तुमने मालिक बहुत कुछ दिया हैं,
तेरा शुक्रिया हैं,  तेरा शुक्रिया हैं ।
ना मिलती अगर मुझको सौगात तेरी,
तो क्या थी ज़माने में औकात मेरी,
तुम्ही ने तौ जीने के काबिल किया हैं
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।  ॥ मुझे ॥

मुझे है सहारा तेरी बंदगी का,
है जिस पर गुज़ारा मेरी जिंदगी का,
यह बन्दा तो तेरे सहारे जिया हैं,
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।
मिला मुझको सब कुछ बदौलत तुम्हारी,
मेर कुछ नहीं सब हैं दौलत तुम्हारी
उसे क्या कमी जो तेरा हो लिया हैं,
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।  ॥ मुझे ॥

मेर ही नहीं तू सभी का हैं दाता,
सभी को सभी कुछ देता दीलाता,
तेर ही दीया सब ने खाया पीया हैं,
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।
किया कुछ न मैंने शर्मशार हूँ मैं,
तेरी रेहमतो का कर्जदार हूँ मैं,
दिया कुछ नही बस लिया ही लिया है,
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।  ॥ मुझे ॥

करें आस उम्मीद फीर भी बियोगी,
जो अबतक हैं रहमत वह आगे भी होगी,
बुझे न कभी प्यार का जो दिया हैं,
तेरा शुक्रिया हैं तेरा शुक्रिया हैं ।  ॥ मुझे ॥

 

Print Friendly, PDF & Email
Be Sociable, Share!
 Tagged with:

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)