Jan 022009
 

घट घट में पंछी बोलता – कबीर

घट घट में पंछी बोलता ,
आप ही दंडी, आप तराज़ू ,
आप ही बैठा तोलता ,
आप ही माली, आप बगीचा ,
आप ही कलियाँ तोड़ता ,
सब बन में सब आप बिराजे ,
जड़ चेतना में डोलता ,
कहत कबीरा सुनो भाई साधो ,
मन की घूंडी खोलता

Be Sociable, Share!

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)