Jan 152011
 

जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ

जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ
तुफानो से क्या घबराना तुफानो मैं बहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं

ग़म और ख़ुशी की रातें सब हैं उसकी सौगातें
ग़म और ख़ुशी की रातें सब हैं उसकी सौगातें
देने वाला जो देदे देने वाला जो देदे
हस हसके सहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ
तुफानो से क्या घबरना तुफानो मैं बहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं

तुम दूर नहीं मंजिल बस दिल को लागलो दिल से
तुम दूर नहीं मंजिल बस दिल को लागलो दिल से
और उसके गले से लग कर और उसके गले से लग कर
जो कहना हैं कहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं उस हाल में रहते जाओ
तुफानो से क्या घबराना तुफानो मैं बहते जाओ
जिस हाल में रखें साईं

Print Friendly, PDF & Email
Be Sociable, Share!

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)