Jan 062009
 

Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apna chadha dau rang hey sai, itna hi mein, chahu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu

Tumne mujhko sadguru Sai
Bhakti yogya banaya
Mein murakh, na samja tumko
Vyarth hi samay gawahaya
Hai Sai, mein dwar tumhare
Dhukhde apne sunaau…
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu

Sadd sangat na bhaayi mujhko
Mujhko maya bhaayi
Chanchal maya ne bhi meri
Raah prabho prabhu bhatkaayi
Hai Sai mein kab tak jag mein
Dar dar thokar khaau
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu

Aann ke taaron mein hai Sai
Aargam tum ban jao
Sa se sa tak banke Sai
Kanth mein tum buss jaao
Mahima tumhaari ga ga karke
Tumko aaj sunauu

Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu
Apna chadha dau rang hey sai, itna hi mein, chahu
Apne mann ki kori chunariya, dwar tumhare, laauuuuu

अपने मन की कोरी चुनरिया
(sing in the tune of famous bhajan by hari om sharan – maili chaadar oddh ke kaise)

अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपना चढा दौ रंग है सांइ, इतना ही मैं  चाहु
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ

तुमने मुझको सदगुरु सांइ, भक्ति य़ोग्य बनया
मैं मुरख ना समजा तुमको
व्यर्थ हि समय गवाहय
हैं सांइ मैं   द्वार तुम्हारे
दुखडे आपने सुनाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ

सद संगत ना भाई मुझको
मुझको माया भाई
चंचल माया ने भी मेरी
राह प्रभो भटकाइ
हैं सांइ मैं कब तक जग मैं
दर दर ठोकर खाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ

मंन के तारो मैं हैं सांइ
सरगम तुम बन जाओ
सा – से – सा तक बनके सांइ
क़ंठ मैं तुम बस जाओँ
महिमा तुम्हारी गा गा करके
तुमको आज सुनाउ

अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ
अपना चढा दौ रंग है सांइ, इतना ही मैं  चाहु
अपने मन की कोरी चुनरिया, द्वार तुम्हारे लाउ

Print Friendly, PDF & Email
Be Sociable, Share!

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)